प्रेम by दादा भगवान
  • More by दादा भगवान
  • See All
प्रेम by दादा भगवान

प्रेम

by दादा भगवान

Edited by नीरूबहन अमीन
( )( )( )( )( )(0)
0Reviews0Quotations0Notes
Description
सच्चा प्रेम तो वह होता है जो कभी कम या ज़्यादा ना हो और उसमें किसी प्रकार की अपेक्षा ना हो|ऐसा सच्चा प्रेम तो बस ज्ञानी कर सकते है जिन्हें लोगो में कोई भी भेदभाव मालूम नहीं होता इसलिए उनका व्यवहार सबके साथ बहुत ही स्नेहपूर्ण होता है|
Community Stats

Has it in their library

0

Are reading it right now

0

Are willing to exchange it

About this Edition

Language

Hindi

Publication Date

2016

Format

eBook

Number of Pages

76

ISBN

9386289679

ISBN-13

9789386289674